हरियाणा में स्कूल खोलने की तैयारियां शुरू, पैरेंट्स से फिर लिए जा रहे सुझाव !

रोहतक– हरियाणा में 14 मार्च से बंद स्कूल अब 21 सितंबर से स्कूल खुलने जा रहे हैं। वहीं कोरोना वायरस को देखते हुए स्कूल स्तर पर तैयारियां भी की जा चुकी हैं। हालांकि रोहतक जिले में कोरोना वायरस के केस तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में खतरा ना उठाते हुए स्कूल मुखियाओं की ओर से अभिभावकों की दोबारा से राय चिंतन आवेदन के जरिए मांगी जा रही है।

शिक्षा विभाग की ओर से करीब एक सप्ताह पहले कराए ऑनलाइन सर्वे में जिले के 81 प्रतिशत अभिभावकों ने स्कूल खोलने पर सहमति दी। अब जब दोबारा से लिखित में अभिभावकों की स्कूल खोलने पर राय मांगी जा रही है तो ज्यादातर में कोरोना के बढ़ते केसों का डर भी दिखाई दे रहा है।

अभी स्कूल मुखियाओं को 21 सितंबर से पहले अभिभावकों की राय जानकर शिक्षा अधिकारियों को रिपोर्ट देनी है। इसलिए शनिवार को भी अधिकतर सरकारी स्कूलों में स्कूल मैनेजमेंट कमेटी की बैठक होगी

Also Read- Clerk भर्ती: हरियाणा में ज्वाइन कर चुके 4800 क्लर्क भर्ती पर लटकी तलवार, हाईकोर्ट ने मांगा जवाब

कोविड-19 ने सिखाया कि खुद की सुरक्षा जितनी जरूरी है, उतनी ही दूसरों की भी है। इसलिए गांधी नगर स्थित राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में शिक्षक खुद कमरों को सेनिटाइज कर रहे हैं। कारण, एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी का रिटायर होना और दूसरे की कोविड-19 में ड्यूटी होना। 21 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी शिक्षकों से सुझाव लेने स्कूल में आ सकेंगे, इसलिए कोरोना काल में एहतियात का ख्याल रखते हुए शिक्षक खुद ही प्रबंध करने में लगे हैं।

अभिभावकों ने दी सहमति

गढ़ी बोहर स्थित राउवि के शिक्षक राजरूप राठी ने बताया कि 9वीं-10वीं के लिए 50 फीसदी अभिभावकों ने ही अपनी सहमति दी है, जबकि 60 प्रतिशत सहमति आने पर ही विद्यार्थी स्कूल में आ सकते हैं। खरैंटी स्थित राकवमावि की प्राचार्या मुन्नी ने बताया कि 9वीं से 12वीं के विद्यार्थियों का स्कूल आने के संबंद्ध में 50 फीसदी अभिभावकों ने हां कहा है और बाकी ने असहमति जताई है। चमारिया स्कूल के शिक्षक दयानंद श्योराण ने कहा कि 11वीं-12वीं में कुल 120 विद्यार्थियों में से 25 ने ही अपनी सहमति दी है और 9वीं-10वीं कक्षा के लिए एक भी अभिभावक की राय नहीं आई है। वहीं, मॉडल टाउन स्थित राकवमावि की प्राचार्या ऋतु ने बताया कि अभी ज्यादातर अभिभावकों की प्रतिक्रिया विद्यार्थियों को स्कूल नहीं भेजने की ही आ रही है। इस बारे में शनिवार को एसएमसी की बैठक में ही स्पष्ट होगा।

ब्लॉकों से रिपोर्ट मंगवाई

जिले के सभी सीनियर सेकंडरी में एसएमसी बैठक के जरिए राय ली जा रही है। इसके साथ ही अभिभावकों से भी कंसर्न आवेदन से सहमति ली जा रही है। सभी ब्लॉकों से रिपोर्ट मंगवाई है। सोमवार के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।- डॉ. विजय लक्ष्मी, डीईओ, रोहतक

Top Hindi NewsLatest News Updates, Delhi Updates,Haryana News, click on Delhi FacebookDelhi twitter and Also Haryana FacebookHaryana Twitter.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *