कोरोना काल में इस बार दिल्ली में छठ को लेकर सियासत

नई दिल्‍ली: (अनिल सिंह की रिपोर्ट)- कोरोना काल में इस बार दिल्ली में छठ पर्व को लेकर राजनीतिक दलों में जम कर सियासत हो रही है। केजरीवाल सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सावर्जनिक रूप से छठ पर्व मनाने पर पाबंदी का आदेश जारी कर दिया है तो कांग्रेस और बीजेपी केजरीवाल सरकार के इस फैसले की खिलाफ सड़कों पर उतर आई हैं। अब आम आदमी के छठ पर्व सावर्जनिक रूप से मनाने की परमिशन लाने की गेंद बीजेपी के पाले में डाल दी है।

 

देश में कोरोना महामारी के चलते इस वक्त आपदा प्रबंधन नियम लागू है है यानी कि सभी राज्यों की शक्तियां केंद्र सरकार के अधीन आ जाती है। ऐसे में केंद्र सरकार तय करती है कि आपदा की स्थिति से निपटने के लिए क्या किया जाए और क्या ना किया जाए। इसी बात का हवाला देकर आम आदमी पार्टी ने बीजेपी के छठ पर्व को सावर्जनिक रूप में मनाए जाने की मांग को बीजेपी नेताओं के पाले में डाल दिया है। उनका कहना है कि गृह मंत्री अमित शाह से इसी के लिए गाइड लाइन ले आएं। आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता दुर्गेश पाठक ने बीजेपी नेताओं पर छठ पर्व की आड़ में घटिया राजनीति करने का आरोप भी लगाया।

 

दिल्ली में छठ पर्व हर साल की तरह मनाया जाए। इस मांग को लेकर बीजेपी ने मंगलवार को मुख्यमंत्री के घर का घेराव भी किया। बीजेपी का कहना है कोरोना को देखते हुए केजरीवाल घाटों पर व्यवस्था करे जिससे लोगों के बीच दो गज की दूरी बनी रहे। बीजेपी का आरोप है कि केजरीवाल एक विशेष वर्ग के लोगों को टारगेट कर रहे हैं

 

कोरोना काल में दिल्ली में सावर्जनिक रूप छठ पर्व पर लगी मुख्यमंत्री केजरीवाल की रोक को लेकर कांग्रेस भी सियासी जंग में कूद पड़ी है। कांग्रेस ने भी बीते रविवार को जंतर मंतर पर केजरीवाल के फैसले के विरोध में धरना दिया था।

 

 

Top Hindi News, Latest News Updates, Delhi Updates, Haryana News, click on Delhi Facebook, Delhi twitter  and Also Haryana Facebook, Haryana Twitter.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *